एलएसी पर चीन के खिलाफ मजबूत नेतृत्व प्रदान करने के लिए दो कमंडार सम्मानित

एलएसी पर चीन के खिलाफ मजबूत नेतृत्व प्रदान करने के लिए दो कमंडार सम्मानित

National

Two Commanders Awarded UYSM: पूर्वी लद्दाख से सटी एलएसी पर चीन के खिलाफ मजबूत नेतृत्व प्रदान करने के लिए सरकार ने दो बड़े मिलिट्री कमांडरों को उत्तम युद्ध सेवा मेडल (यूवाईएसएम) से नवाजा है. मंगलवार की शाम को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रक्षा अलंकरण समारोह में दोनों कमांडर को यूवाईएसएम मेडल से सम्मानित किया. रक्षा अलंकरण समारोह में जिन दो कमांडरों को उत्तम युद्ध सेवा मेडल से सम्मानित किया गया है, वे हैं लेफ्टिनेंट जनरल वाई के जोशी और लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मेनन.

हाल ही में रिटायर हुए हैं ले. जनरल जोशी
हाल ही में ले. जनरल जोशी भारतीय सेना की उधमपुर स्थित उत्तरी कमान के कमांडर के पद से रिटायर हुए हैं. पूर्वी लद्दाख में चीन से हुए तनाव और गलवान घाटी की हिंसा के दौरान जोशी ही उत्तरी कमान की बागडोर संभाले हुए थे. उत्तरी कमान की जिम्मेदारी पूर्वी लद्दाख से सटी एलएसी और पाकिस्तान से सटी एलओसी और सियाचिन की है.

लेफ्टिनेंट जनरल मेनन  सेना मुख्यालय में तैनात हैं 
लेफ्टिनेंट जनरल मेनन इन दिनों सेना मुख्यालय में मिलिट्री-सेक्रेटरी के पद पर तैनात हैं. उन्हें भी यूवाईएसएम चीन के खिलाफ एलएसी पर मजबूत लीडरशिप के लिए दिया गया है. वर्ष 2021 में ले.जनरल मेनन लेह स्थित फायर एंड फ्यूरी कोर (14वीं) के कमांडर थे. चीन के साथ फिंगर एरिया और कैलाश हिल रेंज पर डिसइंगेजमेंट के लिए हुई वार्ता के लिए भारत की तरफ से लें.जनरल मेनन ही सैन्य प्रतिनिधिंडल का नेतृत्व करते थे.

राष्ट्रपति भवन में आयोजित रक्षा अलंकरण समारोह में राष्ट्रपति के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सहित कई गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे.

थलसेना प्रमुख को पीवीएसएम से नवाजा गया
अलंकरण समारोह में थलसेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे को भी उनकी उत्कृष्ट सेवाओं के लिए परम विशिष्ट सेवा मेडल (पीवीएसएम) से नवाजा गया. इसके अलावा हाल ही में चिनार कोर के कमांडर के पद से महू स्थित आर्मी वॉर कॉलेज के कमांडेंट के पद पर जाने वाले लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे को भी उत्तम युद्ध सेवा मेडल से नवाजा गया है. डिफेंस इंटेलिजेंस एजेंसी के डीजी के पद से हाल ही में रिटायर होने वाले लेफ्टिनेंट जनरल केजीएस ढिल्लन को भी पीवीएसएम से नवाजा गया है.

इसके अलावा राष्ट्रपति यानि सशस्त्र सेनाओं के सुप्रीम कमांडर ने शौर्य चक्र और दूसरे वीरता मेडल से भी सैनिकों को सम्मानित किया. इनमे वे सैनिक भी शामिल थे जिन्हें मरणोपरांत ये मेडल दिया गया. मरणोपरांत सैनिकों की पत्नी और दूसरे परिवारवालों ने यह पुरस्कार ग्रहण किया.

यह भी पढ़ें:

New Chinar Corps Commander: लेफ्टिनेंट जनरल अमरदीप सिंह औजला ने संभाली चिनार कोर की कमान, काउंटर-टेरेरिज्म के माने जाते हैं एक्सपर्ट

Anantnag Encounter: जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, दो आतंकी ढेर

https://www.abplive.com/news/india/two-commanders-got-uttam-yudh-seva-medal-showed-strong-leadership-against-china-at-lac-ann-2120769

Leave a Reply

Your email address will not be published.